बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया विश्व आदिवासी दिवस

बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया विश्व आदिवासी दिवस

घोघड़ा सिद्धबाबा दरबार से ग्राम भुरकुंडी से चंदेनी ग्राम तक निकाली शोभायात्रा

विश्व आदिवासी दिवस में सगा समाज का उमड़ा जनसैलाब

- Advertisement -

केवलारी। विश्व आदिवासी दिवस के उपलक्ष्य में केवलारी विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत ग्राम भुरकुंडी के समीप स्थित घोघड़ा सिद्धबाबा दरबार में आदिवासी समाज के लोगों द्वारा विशाल जनसमुदाय के साथ मिलकर आदिवासी दिवस मनाया गया।
आपको बता दें कि घोघड़ा सिद्धबाबा दरबार के दादाजी गुलाबशाह भलावी के तत्वाधान में समस्त आदिवासी अपने गांव में महिला, पुरुष एवं बच्चों समेत एकजुट होकर समाज में एकता का ऐतिहासिक प्रदर्शन करते हुए एक गांव से दूसरे गांव में शोभायात्रा के माध्यम से एक वीर एक कमान, आदिवासी एक समान, का नारा लगाकर डीजे की धुन पर गौंड़ी गीत बजाकर जमकर आदिवासियों द्वारा नृत्य करते हुये विश्व आदिवासी दिवस कार्यक्रम को बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।
वहीं शोभा यात्रा के पश्चात कार्यक्रम स्थल भुरकुंडी घोघड़ा सिद्धबाबा दरबार पहुंचकर सामाजिक रीति नीति अनुसार गौंडवाना ध्वज फहराया गया एवं देव पूजन कर इस कार्यक्रम के माध्यम से आदिवासियों की जीवनशैली की परिभाषा को परिभाषित करती समाज की एकता अखंडता की झलक देखी गई।
गौरतलब है कि आदिवासी समाज का नेतृत्व कर रहे वरिष्ठजनों द्वारा अपने संबोधन के दौरान विश्व आदिवासी दिवस को लेकर आदिवासी समाज की भौगोलिक, सांस्कृतिक, जीवन शैली, शिक्षा, अत्याचार तथा शोषण के मुद्दो पर बेबाक टिप्पणी करते हुये समाज को जगाने का प्रयास किया गया। साथ ही उन्होने अपने संबोधन के दौरान कहा कि विश्व की आदिवासी आबादी को लेकर उनके अधिकारों को बढ़ावा देने और उनकी सुरक्षा के लिए प्रत्येक वर्ष 9 अगस्त को अंतर्राष्ट्रीय आदिवासी दिवस मनाया जाता है। यह घटना उन उपलब्धियों और योगदानों को भी स्वीकार करती है जो मूलनिवासी लोग पर्यावरण संरक्षण जैसे विश्व के मुद्दों को बेहतर बनाने की दिशा में करते आ रहे हैं। उन्होने बताया कि आदिवासी दिवस संयुक्त राष्ट्र की महासभा द्वारा दिसंबर 1994 में घोषित किया गया था।
साथ ही उन्होने प्रदेश की वर्तमान सरकार पर निशाना साधते हुये कहा कि पूरे विश्व में 9 अगस्त आदिवासी दिवस की सरकारी छुट्टी घोषित की गई है, किन्तु मध्यप्रदेश सरकार द्वारा शासकीय छुट्टी घोषित नहीं की गई है, जिसके चलते उन्होने वर्तमान सरकार के खिलाफ पूरे प्रदेश में उग्र आन्दोलन करने की चेतावनी भी दी है।

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

 

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया विश्व आदिवासी दिवस

घोघड़ा सिद्धबाबा दरबार से ग्राम भुरकुंडी से चंदेनी ग्राम तक निकाली शोभायात्रा

विश्व आदिवासी दिवस में सगा समाज का उमड़ा जनसैलाब

केवलारी। विश्व आदिवासी दिवस के उपलक्ष्य में केवलारी विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत ग्राम भुरकुंडी के समीप स्थित घोघड़ा सिद्धबाबा दरबार में आदिवासी समाज के लोगों द्वारा विशाल जनसमुदाय के साथ मिलकर आदिवासी दिवस मनाया गया।
आपको बता दें कि घोघड़ा सिद्धबाबा दरबार के दादाजी गुलाबशाह भलावी के तत्वाधान में समस्त आदिवासी अपने गांव में महिला, पुरुष एवं बच्चों समेत एकजुट होकर समाज में एकता का ऐतिहासिक प्रदर्शन करते हुए एक गांव से दूसरे गांव में शोभायात्रा के माध्यम से एक वीर एक कमान, आदिवासी एक समान, का नारा लगाकर डीजे की धुन पर गौंड़ी गीत बजाकर जमकर आदिवासियों द्वारा नृत्य करते हुये विश्व आदिवासी दिवस कार्यक्रम को बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया।
वहीं शोभा यात्रा के पश्चात कार्यक्रम स्थल भुरकुंडी घोघड़ा सिद्धबाबा दरबार पहुंचकर सामाजिक रीति नीति अनुसार गौंडवाना ध्वज फहराया गया एवं देव पूजन कर इस कार्यक्रम के माध्यम से आदिवासियों की जीवनशैली की परिभाषा को परिभाषित करती समाज की एकता अखंडता की झलक देखी गई।
गौरतलब है कि आदिवासी समाज का नेतृत्व कर रहे वरिष्ठजनों द्वारा अपने संबोधन के दौरान विश्व आदिवासी दिवस को लेकर आदिवासी समाज की भौगोलिक, सांस्कृतिक, जीवन शैली, शिक्षा, अत्याचार तथा शोषण के मुद्दो पर बेबाक टिप्पणी करते हुये समाज को जगाने का प्रयास किया गया। साथ ही उन्होने अपने संबोधन के दौरान कहा कि विश्व की आदिवासी आबादी को लेकर उनके अधिकारों को बढ़ावा देने और उनकी सुरक्षा के लिए प्रत्येक वर्ष 9 अगस्त को अंतर्राष्ट्रीय आदिवासी दिवस मनाया जाता है। यह घटना उन उपलब्धियों और योगदानों को भी स्वीकार करती है जो मूलनिवासी लोग पर्यावरण संरक्षण जैसे विश्व के मुद्दों को बेहतर बनाने की दिशा में करते आ रहे हैं। उन्होने बताया कि आदिवासी दिवस संयुक्त राष्ट्र की महासभा द्वारा दिसंबर 1994 में घोषित किया गया था।
साथ ही उन्होने प्रदेश की वर्तमान सरकार पर निशाना साधते हुये कहा कि पूरे विश्व में 9 अगस्त आदिवासी दिवस की सरकारी छुट्टी घोषित की गई है, किन्तु मध्यप्रदेश सरकार द्वारा शासकीय छुट्टी घोषित नहीं की गई है, जिसके चलते उन्होने वर्तमान सरकार के खिलाफ पूरे प्रदेश में उग्र आन्दोलन करने की चेतावनी भी दी है।

[avatar]