अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर नारी शक्ति ने शराब बंदी को लेकर जिला कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को सौंपा ज्ञापन

आजीविका मिशन कुडारी की महिलाओं ने शासन-प्रशासन को दी चेतावनी

- Advertisement -

 

नीरज डेहरिया
सिवनी। शराब एक सामाजिक बुराई है जिसके कारण अनेक परिवार बदहाली की कगार पर पहुंच गए हैं अपराधों को बढ़ाने में भी शराब का प्रमुख हाथ है जिससे सिवनी जिले में शराब एक प्रमुख समस्या है जिससे सबसे अधिक पीड़ित महिलाएं ही होती हैं कुडारी  क्षेत्रों में शराब के दुष्परिणामों को देखते हुए यह स्थानीय महिलाओं ने दूसरों के लिए प्रेरणास्पद कदम उठाया है। आपको बता दें कि विगत 2 साल पहले गांव की महिलाएं आपस मे एकत्रित हुईं और लोगों को शराब के दुष्परिणाम बताते हुए शराब न पीने की अपील की यह महिलाएं खास पढ़ी-लिखी भी नहीं हैं, आदिवासी ग्रामीण परिवेश की है परिजनों को समझाइश देने के बाद भी महिलाओं ने यह काम किया जो आबकारी विभाग या पुलिस को करना चाहिए था वो यह महिलाएं गांव और आसपास बनने वाली शराब के अवैध ठिकानों पर हल्ला बोल देती हैं, आपको बता दें कि गांव की शैलकुमारी उइके, राजकुमारी उइके,  उर्मिला उइके, गुलाबा यादव, बसंती इनवाती, सुनीता यादव, रामकुमारी इनवाती, श्याम काली धुर्वे, सुनीता राय, चमेली डेहरिया, लक्ष्मी डेहरिया, गीता डेहरिया, चन्द्रकान्ता खैरवार और अन्य महिला एक मिसाल है अब तक कई बार शराब के अवैध अड्डों को पकड़ा चुकी हैं। धनोरा थाना क्षेत्र के अन्तर्गत कुडारी, मझगवां, सुकवाह गाँव की महिलाएँ शराबियों से बहुत परेशान होकर यह कदम उठाया गया है, और गाँव में देखा जाता है कि छोटे-छोटे बच्चों को शराब में लथपथ नजर आते। घरों में महिलाएँ आपने आप को असुरक्षित महसूस कर रही है कि हमको रोड़ पर अकेले चलने के लिए सोचना पड़ता है कि इधर उधर कोई शराबी तो नहीं है, गाँव में सुबह से ही लोग शराब पीकर आ जाते हैं और महिलाए ने उनके हिसाब से कोई काम नहीं किया तो लड़ाई झगड़ा एवं मारना तोड़ना करने लगते हैं जिससे घर परिवारों में पति पत्नी के बीच में भारी फूट देखने को मिल रही है, नारी शक्ति आजीविका मिशन कुडारी मझगवां की महिलाओं ने किया है पुलिस का कार्य ओर अनेकों जगह जा जाकर पकड़ी है शराब को, लेकिन आज दिनांक तक थाना धनोरा पुलिस ने शराब बेचने वाले पर कोई कार्यवाही नही की है, जिससे क्षेत्र के लोगों के मन पर उठ रहे हैं कई सवाल की धनोरा थाना पुलिस शराब बनाने वाले एवं बेचने वाले पर क्यों नहीं करते कार्यवाही? नारी शक्ति आजीविका मिशन कुडारी मझगवां की महिलाओं ने समूहिक रुप से थाना धनोरा एवं तहसीलदार महोदय को भी इसकी शिकायत कर दिया गया लेकिन अभी तक थाना धनोरा पुलिस प्रशासन ने कोई कार्यवाही नहीं कि इस लिए नारी शक्ति आजीविका मिशन की महिलाओं ने महिला दिवस पर जिला कलेक्टर एवं जिला पुलिस अधीक्षक महोदय को लिखित आवेदनों के साथ शिकायत की है और शराबियों पर कार्रवाई करने की मांग की है यदि कोई कार्यवाही नहीं होती है तो हम चक्काजाम करने की चेतावनी भी दी है इसके आगे पुलिस प्रशासन की जवाब दारी रहेगी।

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

 
Sorry, there are no polls available at the moment.

आजीविका मिशन कुडारी की महिलाओं ने शासन-प्रशासन को दी चेतावनी

 

नीरज डेहरिया
सिवनी। शराब एक सामाजिक बुराई है जिसके कारण अनेक परिवार बदहाली की कगार पर पहुंच गए हैं अपराधों को बढ़ाने में भी शराब का प्रमुख हाथ है जिससे सिवनी जिले में शराब एक प्रमुख समस्या है जिससे सबसे अधिक पीड़ित महिलाएं ही होती हैं कुडारी  क्षेत्रों में शराब के दुष्परिणामों को देखते हुए यह स्थानीय महिलाओं ने दूसरों के लिए प्रेरणास्पद कदम उठाया है। आपको बता दें कि विगत 2 साल पहले गांव की महिलाएं आपस मे एकत्रित हुईं और लोगों को शराब के दुष्परिणाम बताते हुए शराब न पीने की अपील की यह महिलाएं खास पढ़ी-लिखी भी नहीं हैं, आदिवासी ग्रामीण परिवेश की है परिजनों को समझाइश देने के बाद भी महिलाओं ने यह काम किया जो आबकारी विभाग या पुलिस को करना चाहिए था वो यह महिलाएं गांव और आसपास बनने वाली शराब के अवैध ठिकानों पर हल्ला बोल देती हैं, आपको बता दें कि गांव की शैलकुमारी उइके, राजकुमारी उइके,  उर्मिला उइके, गुलाबा यादव, बसंती इनवाती, सुनीता यादव, रामकुमारी इनवाती, श्याम काली धुर्वे, सुनीता राय, चमेली डेहरिया, लक्ष्मी डेहरिया, गीता डेहरिया, चन्द्रकान्ता खैरवार और अन्य महिला एक मिसाल है अब तक कई बार शराब के अवैध अड्डों को पकड़ा चुकी हैं। धनोरा थाना क्षेत्र के अन्तर्गत कुडारी, मझगवां, सुकवाह गाँव की महिलाएँ शराबियों से बहुत परेशान होकर यह कदम उठाया गया है, और गाँव में देखा जाता है कि छोटे-छोटे बच्चों को शराब में लथपथ नजर आते। घरों में महिलाएँ आपने आप को असुरक्षित महसूस कर रही है कि हमको रोड़ पर अकेले चलने के लिए सोचना पड़ता है कि इधर उधर कोई शराबी तो नहीं है, गाँव में सुबह से ही लोग शराब पीकर आ जाते हैं और महिलाए ने उनके हिसाब से कोई काम नहीं किया तो लड़ाई झगड़ा एवं मारना तोड़ना करने लगते हैं जिससे घर परिवारों में पति पत्नी के बीच में भारी फूट देखने को मिल रही है, नारी शक्ति आजीविका मिशन कुडारी मझगवां की महिलाओं ने किया है पुलिस का कार्य ओर अनेकों जगह जा जाकर पकड़ी है शराब को, लेकिन आज दिनांक तक थाना धनोरा पुलिस ने शराब बेचने वाले पर कोई कार्यवाही नही की है, जिससे क्षेत्र के लोगों के मन पर उठ रहे हैं कई सवाल की धनोरा थाना पुलिस शराब बनाने वाले एवं बेचने वाले पर क्यों नहीं करते कार्यवाही? नारी शक्ति आजीविका मिशन कुडारी मझगवां की महिलाओं ने समूहिक रुप से थाना धनोरा एवं तहसीलदार महोदय को भी इसकी शिकायत कर दिया गया लेकिन अभी तक थाना धनोरा पुलिस प्रशासन ने कोई कार्यवाही नहीं कि इस लिए नारी शक्ति आजीविका मिशन की महिलाओं ने महिला दिवस पर जिला कलेक्टर एवं जिला पुलिस अधीक्षक महोदय को लिखित आवेदनों के साथ शिकायत की है और शराबियों पर कार्रवाई करने की मांग की है यदि कोई कार्यवाही नहीं होती है तो हम चक्काजाम करने की चेतावनी भी दी है इसके आगे पुलिस प्रशासन की जवाब दारी रहेगी।
[avatar]