प्रजापिता ब्रह्मा कुमारी ईश्वरी सेवा संस्थान धनोरा द्वारा विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में किया गया वृक्षारोपण कार्य

50 वा विश्व पर्यावरण दिवस पर फलदार वृक्षों का रोपण

- Advertisement -

धनोरा। प्रजापिता ब्रम्हाकुमारी ईश्वरी सेवा संस्थान धनोरा के द्वारा 5 जून 2022 को विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में सर्वप्रथम थाना परिसर धनोरा में वृक्षारोपण किया गया, जहां थाना प्रभारी ईश्वरी पटले एवं श्रीमती बुद्ध मरावी मेडम तथा समाजसेवी सन्नी ठाकुर व श्रीमती सुनीता मेडम समेत ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय धनोरा सेंटर से बीके विनीता दीदी साथी निर्मलकर एवं अनेक लोग उपस्थित रहे। वहीं द्वितीय वृक्षारोपण सरकारी हॉस्पिटल धनोरा में किया गया, जहां हॉस्पिटल के बीएमओ डॉ प्रसाद तथा स्टाफ नर्स अनीता मेडम तथा मोनू राय समेत क्षेत्रीयजनों ने उक्त वृक्षारोपण कार्यक्रम में भाग लिया। जहां उन्होंने
आम, जामुन, आंवला, जाम सहित अन्य प्रजाति के फलदार वृक्षों का रोपण किया।
आपको बता दें कि अत्यधिक गर्मी पड़ने के कारण वृक्षारोपण लक्ष्य को विराम लगाते हुए वर्षा काल प्रारंभ होने के बाद रोपित किए जाने की कार्य योजना बनाई गई । वहीं पर्यावरण संतुलन के लिए भूमि को हरित क्रांति से संगठित करने के अभियान को लेकर विश्व पर्यावरण दिवस पर पौधों का रोपण का आयोजन निश्चित ही पर्यावरण संरक्षण की दिशा में सराहनीय पहल है।

 

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

 
Sorry, there are no polls available at the moment.

50 वा विश्व पर्यावरण दिवस पर फलदार वृक्षों का रोपण

धनोरा। प्रजापिता ब्रम्हाकुमारी ईश्वरी सेवा संस्थान धनोरा के द्वारा 5 जून 2022 को विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में सर्वप्रथम थाना परिसर धनोरा में वृक्षारोपण किया गया, जहां थाना प्रभारी ईश्वरी पटले एवं श्रीमती बुद्ध मरावी मेडम तथा समाजसेवी सन्नी ठाकुर व श्रीमती सुनीता मेडम समेत ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय धनोरा सेंटर से बीके विनीता दीदी साथी निर्मलकर एवं अनेक लोग उपस्थित रहे। वहीं द्वितीय वृक्षारोपण सरकारी हॉस्पिटल धनोरा में किया गया, जहां हॉस्पिटल के बीएमओ डॉ प्रसाद तथा स्टाफ नर्स अनीता मेडम तथा मोनू राय समेत क्षेत्रीयजनों ने उक्त वृक्षारोपण कार्यक्रम में भाग लिया। जहां उन्होंने
आम, जामुन, आंवला, जाम सहित अन्य प्रजाति के फलदार वृक्षों का रोपण किया।
आपको बता दें कि अत्यधिक गर्मी पड़ने के कारण वृक्षारोपण लक्ष्य को विराम लगाते हुए वर्षा काल प्रारंभ होने के बाद रोपित किए जाने की कार्य योजना बनाई गई । वहीं पर्यावरण संतुलन के लिए भूमि को हरित क्रांति से संगठित करने के अभियान को लेकर विश्व पर्यावरण दिवस पर पौधों का रोपण का आयोजन निश्चित ही पर्यावरण संरक्षण की दिशा में सराहनीय पहल है।

 

[avatar]