जन्मदिन पर पौधारोपण कर दिया पर्यावरण संरक्षण का संदेश

बीते कई वर्षों से अपने जन्मदिन के अवसर पर भाजपा जिला उपाध्यक्ष श्रीराम ठाकुर कर रहे पौधारोपण

- Advertisement -

पलारी। विकास के नाम पर वृक्षों की अंधाधुंध कटाई और बेलगाम बढ़ती जनसंख्या से धरती पर पर्यावरण संकट बढ़ता जा रहा है। सरकारों को जितना हरियाली के लिए प्रयास करना चाहिए था उतना नहीं हुआ है। वहीं ग्लोबल वार्मिंग कई सालों से पूरी दुनिया के लिए चिंता का विषय बना हुआ है. भारत में ग्लोबल वार्मिंग के दुष्परिणाम भी दिखने लगे है. उत्तराखंड जैसी तबाही के लिए वैज्ञानिक ग्लोबल वार्मिंग को जिम्मेदार मान रहे हैं. हालांकि अभी उत्तराखंड हादसे की सही वजह सामने नहीं आई है लेकिन वैज्ञानिकों का एक बड़ा हिस्सा ऐसी घटनाओं के लिए बढ़ते तापमान को भी जिम्मेदार मान रहा है. वहीं मध्यप्रदेश के सिवनी जिले में भाजपा के जिलाउपाध्यक्ष एवं नवनिर्वाचित जिला पंचायत सदस्य पति श्रीराम ठाकुर हैं, जो ग्लोबल वार्मिंग पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए इस दिशा में काम कर रहे हैं, आपको बता दें कि श्रीराम ठाकुर बीते कई वर्षों से अपने जन्मदिन के अवसर पर पौधारोपण कर रहे हैं साथ ही जन समुदाय एवं युवा पीढ़ी को भी उनके जन्मदिवस के अवसर पर एक पौधारोपण करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं।
आपको बता दें कि श्रीराम ठाकुर बीते 29 मई 2017 से प्रतिवर्ष अपने परिवार के सभी सदस्यों एवं अपने आदर्शों महापुरुषों की जन्म दिवस एवं जयंती पर वृक्षारोपण कर रहे हैं, जिन्हें पूरी देखरेख के साथ पाल पोस कर बड़ा भी किया रहा है ताकि यह अभियान एक फोटोग्राफी तक सीमित ना रहे। इसी कड़ी में 15 जुलाई को उन्होंने अपने जन्मदिन के अवसर पर प्रति वर्ष की भांति  इस वर्ष भी विभिन्न प्रजातियों के फलदार सीताफल एवं आम के वृक्ष लगाकर प्रकृति के संरक्षण एवं हरा भरा रखने संकल्प को दोहराया, साथ ही सभी युवा नौजवान साथियों से भी आग्रह किया कि आप सभी अपने अपने जन्मदिन पर वृक्ष अवश्य लगाएं। साथ ही उन्होंने युवा पीढ़ी को सम्बोधित करते हुए पर्यावरण संदेश में कहा कि विकास की दौड़ में कहीं न कहीं हम सभी प्रकृति की उपेक्षा कर रहे हैं, जिसका खामियाजा भी हमें ही भुगतना पड़ रहा है। इसे संरक्षित करना होगा। भारतीय संस्कृति में पेड़, पौधे, नदी आदि पर्यावरण से संबंधित प्राकृतिक संसाधनों की पूजा की जाती है। इसके पीछे इन सभी का महत्व समझने का संदेश छिपा होता है। उन्होंने युवा वर्ग से अपील की कि सभी पौधारोपण के लिए आगे आएं और अपने आसपास के परिवेश को हरा-भरा बनाएं।

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

 
Sorry, there are no polls available at the moment.

बीते कई वर्षों से अपने जन्मदिन के अवसर पर भाजपा जिला उपाध्यक्ष श्रीराम ठाकुर कर रहे पौधारोपण

पलारी। विकास के नाम पर वृक्षों की अंधाधुंध कटाई और बेलगाम बढ़ती जनसंख्या से धरती पर पर्यावरण संकट बढ़ता जा रहा है। सरकारों को जितना हरियाली के लिए प्रयास करना चाहिए था उतना नहीं हुआ है। वहीं ग्लोबल वार्मिंग कई सालों से पूरी दुनिया के लिए चिंता का विषय बना हुआ है. भारत में ग्लोबल वार्मिंग के दुष्परिणाम भी दिखने लगे है. उत्तराखंड जैसी तबाही के लिए वैज्ञानिक ग्लोबल वार्मिंग को जिम्मेदार मान रहे हैं. हालांकि अभी उत्तराखंड हादसे की सही वजह सामने नहीं आई है लेकिन वैज्ञानिकों का एक बड़ा हिस्सा ऐसी घटनाओं के लिए बढ़ते तापमान को भी जिम्मेदार मान रहा है. वहीं मध्यप्रदेश के सिवनी जिले में भाजपा के जिलाउपाध्यक्ष एवं नवनिर्वाचित जिला पंचायत सदस्य पति श्रीराम ठाकुर हैं, जो ग्लोबल वार्मिंग पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए इस दिशा में काम कर रहे हैं, आपको बता दें कि श्रीराम ठाकुर बीते कई वर्षों से अपने जन्मदिन के अवसर पर पौधारोपण कर रहे हैं साथ ही जन समुदाय एवं युवा पीढ़ी को भी उनके जन्मदिवस के अवसर पर एक पौधारोपण करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं।
आपको बता दें कि श्रीराम ठाकुर बीते 29 मई 2017 से प्रतिवर्ष अपने परिवार के सभी सदस्यों एवं अपने आदर्शों महापुरुषों की जन्म दिवस एवं जयंती पर वृक्षारोपण कर रहे हैं, जिन्हें पूरी देखरेख के साथ पाल पोस कर बड़ा भी किया रहा है ताकि यह अभियान एक फोटोग्राफी तक सीमित ना रहे। इसी कड़ी में 15 जुलाई को उन्होंने अपने जन्मदिन के अवसर पर प्रति वर्ष की भांति  इस वर्ष भी विभिन्न प्रजातियों के फलदार सीताफल एवं आम के वृक्ष लगाकर प्रकृति के संरक्षण एवं हरा भरा रखने संकल्प को दोहराया, साथ ही सभी युवा नौजवान साथियों से भी आग्रह किया कि आप सभी अपने अपने जन्मदिन पर वृक्ष अवश्य लगाएं। साथ ही उन्होंने युवा पीढ़ी को सम्बोधित करते हुए पर्यावरण संदेश में कहा कि विकास की दौड़ में कहीं न कहीं हम सभी प्रकृति की उपेक्षा कर रहे हैं, जिसका खामियाजा भी हमें ही भुगतना पड़ रहा है। इसे संरक्षित करना होगा। भारतीय संस्कृति में पेड़, पौधे, नदी आदि पर्यावरण से संबंधित प्राकृतिक संसाधनों की पूजा की जाती है। इसके पीछे इन सभी का महत्व समझने का संदेश छिपा होता है। उन्होंने युवा वर्ग से अपील की कि सभी पौधारोपण के लिए आगे आएं और अपने आसपास के परिवेश को हरा-भरा बनाएं।

[avatar]