आठ माह पूर्व अपहृत सात माह की बालिका बरामद, आरोपित दंपती गिरफ्तार

- Advertisement -

सिवनी। आठ माह पूर्व अपहृत सात माह की बालिका को बरघाट पुलिस ने बरामद कर लिया है।वहीं बालिका को अपहृत करने वाले आरोपित दंपति को गिरफ्तार कर लिया गया है।बरघाट पुलिस ने बताया है कि आठ माह पूर्व दो जनवरी को साल्हे कोसमी गावं निवासी ज्ञानीलाल ब्रम्हे थाना बरघाट में रिपोर्ट दर्ज कराया था कि उसकी पत्नी दीपमाला मानसिक रूप से दिव्यांग है।वह उसकी सात माह की बच्ची मयूरी को साथ लेकर बरघाट शहर में घूमते फिरते रहती है। 30 दिसंबर 2021 को पत्नी दीपमाला बच्ची मयूरी को लेकर बरघाट आई थी। वहीं जब ज्ञानीलाल शाम को घर वापस आया तो उसकी दिव्यांग पत्नी दीपमाला घर पर थी, लेकिन बच्ची उसके पास नहीं थी।

इस रिपोर्ट पर थाना बरघाट में अज्ञात आरोपित के खिलाफ मामला पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया।इस मामले में बरघाट पुलिस ने थाना स्तर पर पुलिस टीम गठित कर अपहृता की पतासाजी के प्रयास प्रारंभ किए गए। प्रकरण की विवेचना के दौरान बरघाट शहर में विभिन्ना स्थानों पर लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाले गए।इनमें कुछ स्थानों पर फुटेज में एक हरे रंग की साड़ी पहनी महिला जिसने सफेद कपड़े से अपना मुंह बांधा हुआ था, अपहृता मयूरी की दिव्यांग मां दीपमाला ब्रम्हे का पीछा करते हुए पायी गई।

ज्ञानीलाल की बड़ी लड़की से पूछताछ पर पाया गया कि आरोपित महिला अपहृता की विक्षिप्त महिला का पीछा करते हुए उसके घर तक आई थी।ज्ञानीलाल के बच्चों को बिस्किट लाने पैसे देकर दुकान भेजा व ज्ञानीलाल की पत्नी को पानी के बहाने घर के अंदर भेजकर मयूरी का अपहरण कर ले गई। विवेचना दौरान सीसीटीवी कैमरे में देखी गई संदिग्ध महिला का मुंह पर कपड़ा बंधा फोटोग्राफ, अपहृता बच्ची मयूरी के फोटोग्राफ पंपलेट तैयार कर शहर के विभिन्ना स्थानों व बालाघाट, नागपुर, आने जाने वाली बसों में चस्पा किया गया।

विवेचना टीम को सायबर से तकनीकी सहायता व मुखबिर सूचना के आधार 11 अगस्त को जानकारी प्राप्त हुई कि गुदमा गांव की सुखवती कुमरे जो उसके पति नीरज सनोडिया के साथ नागपुर मे रहती है, उसके पास एक बच्ची है।यह जानकारी भी मिली कि यह महिला त्योहार पर वापस गांव आने वाले है। सुखवती कुमरे जो की मामले में पूर्व से ही संदेही है, को बरघाट पुलिस टीम ने वर्राटोला समनापुर कान्हीवाड़ा में दबिश देकर पकड़ा।

इसके कब्जे से अपहृता बच्ची को दस्तयाब किया गया। आरोपित सुखवती कुमरे ने पूछताछ करने पर उसके पति नीरज सनोडिया के साथ मिलकर बच्ची का अपहरण करना बताई, जिस पर आरोपित नीरज सनोड़िया को उसके घर परतापुर कोनियापार गांव सिवनी से गिरफ्तार किया गया।

इस मामले को सुलझाने में एसडीओपी बरघाट शशिकांत सरेयाम, थाना प्रभारी प्रसन्ना शर्मा, उपनिरीक्षक सदानंद गोदेवार, सउनि सुबोध मालवीय, सउनि जयकुमार चौहान, प्रधान आरक्षक बालचंद, आरक्षक संजय, राजेन्द्र, मुकेश, अजय, महिला आरक्षक शिवकुमारी, केसरीनंदन, सायबर सेल के आरक्षक अजय बघेल, विनय रिया का योगदान रहा।

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

 
Sorry, there are no polls available at the moment.

सिवनी। आठ माह पूर्व अपहृत सात माह की बालिका को बरघाट पुलिस ने बरामद कर लिया है।वहीं बालिका को अपहृत करने वाले आरोपित दंपति को गिरफ्तार कर लिया गया है।बरघाट पुलिस ने बताया है कि आठ माह पूर्व दो जनवरी को साल्हे कोसमी गावं निवासी ज्ञानीलाल ब्रम्हे थाना बरघाट में रिपोर्ट दर्ज कराया था कि उसकी पत्नी दीपमाला मानसिक रूप से दिव्यांग है।वह उसकी सात माह की बच्ची मयूरी को साथ लेकर बरघाट शहर में घूमते फिरते रहती है। 30 दिसंबर 2021 को पत्नी दीपमाला बच्ची मयूरी को लेकर बरघाट आई थी। वहीं जब ज्ञानीलाल शाम को घर वापस आया तो उसकी दिव्यांग पत्नी दीपमाला घर पर थी, लेकिन बच्ची उसके पास नहीं थी।

इस रिपोर्ट पर थाना बरघाट में अज्ञात आरोपित के खिलाफ मामला पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया।इस मामले में बरघाट पुलिस ने थाना स्तर पर पुलिस टीम गठित कर अपहृता की पतासाजी के प्रयास प्रारंभ किए गए। प्रकरण की विवेचना के दौरान बरघाट शहर में विभिन्ना स्थानों पर लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाले गए।इनमें कुछ स्थानों पर फुटेज में एक हरे रंग की साड़ी पहनी महिला जिसने सफेद कपड़े से अपना मुंह बांधा हुआ था, अपहृता मयूरी की दिव्यांग मां दीपमाला ब्रम्हे का पीछा करते हुए पायी गई।

ज्ञानीलाल की बड़ी लड़की से पूछताछ पर पाया गया कि आरोपित महिला अपहृता की विक्षिप्त महिला का पीछा करते हुए उसके घर तक आई थी।ज्ञानीलाल के बच्चों को बिस्किट लाने पैसे देकर दुकान भेजा व ज्ञानीलाल की पत्नी को पानी के बहाने घर के अंदर भेजकर मयूरी का अपहरण कर ले गई। विवेचना दौरान सीसीटीवी कैमरे में देखी गई संदिग्ध महिला का मुंह पर कपड़ा बंधा फोटोग्राफ, अपहृता बच्ची मयूरी के फोटोग्राफ पंपलेट तैयार कर शहर के विभिन्ना स्थानों व बालाघाट, नागपुर, आने जाने वाली बसों में चस्पा किया गया।

विवेचना टीम को सायबर से तकनीकी सहायता व मुखबिर सूचना के आधार 11 अगस्त को जानकारी प्राप्त हुई कि गुदमा गांव की सुखवती कुमरे जो उसके पति नीरज सनोडिया के साथ नागपुर मे रहती है, उसके पास एक बच्ची है।यह जानकारी भी मिली कि यह महिला त्योहार पर वापस गांव आने वाले है। सुखवती कुमरे जो की मामले में पूर्व से ही संदेही है, को बरघाट पुलिस टीम ने वर्राटोला समनापुर कान्हीवाड़ा में दबिश देकर पकड़ा।

इसके कब्जे से अपहृता बच्ची को दस्तयाब किया गया। आरोपित सुखवती कुमरे ने पूछताछ करने पर उसके पति नीरज सनोडिया के साथ मिलकर बच्ची का अपहरण करना बताई, जिस पर आरोपित नीरज सनोड़िया को उसके घर परतापुर कोनियापार गांव सिवनी से गिरफ्तार किया गया।

इस मामले को सुलझाने में एसडीओपी बरघाट शशिकांत सरेयाम, थाना प्रभारी प्रसन्ना शर्मा, उपनिरीक्षक सदानंद गोदेवार, सउनि सुबोध मालवीय, सउनि जयकुमार चौहान, प्रधान आरक्षक बालचंद, आरक्षक संजय, राजेन्द्र, मुकेश, अजय, महिला आरक्षक शिवकुमारी, केसरीनंदन, सायबर सेल के आरक्षक अजय बघेल, विनय रिया का योगदान रहा।

[avatar]