बारिश का कहर : पुल का काफी हिस्सा बहा, केवलारी-नैनपुर मार्ग बंद

- Advertisement -

सिवनी/केवलारी। क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश से नदी नाले उफान पर है। सिवनी मंडला राजमार्ग 11 ए मे सिवनी मंडला सीमा रेखा से गुजरने वाली थांवर नदी का रौद्र रूप दिनांक 14 अगस्त 2022 से पुल के ऊपर से लगभग 12 फीट पानी बहाव का था । 40 घंटों के लगभग पुल डूबने के बाद आज दोपहर जब पुल से पानी नीचे उतरा तब मालूम पड़ा कि ब्रिटिश शासन काल में बना पुल का संपूर्ण स्लैब जो कि बिशाल पत्थरो के टाईल्स के रूप में लगे थे पानी में बह गए एवं पुल के कई स्थानों उसे छतिग्रस्त होने का स्वरूप स्पष्ट दिखाई देने लगा।

सिवनी मंडला राजमार्ग 11 ए से डिंडोरी, अमरकंटक, शहडोल, छिंदवाड़ा ,बेतूल, नागपुर का सीधा संपर्क एवं आवागमन का एक प्रमुख साधन यह मार्ग है । अंग्रेज सरकार ने आवागमन की भीषण त्रासदी से निजात पाने के लिए नैनपुर जंक्शन का स्वरूप देकर वर्ष 1900 से 1904 के मध्य नैनपुर से छिंदवाड़ा, नागपुर, नैनपुर से जबलपुर, नैनपुर से मंडला ,नैनपुर से गोंदिया के लिए नेरो ग्रेज ट्रेन चलाया था।

115 वर्षों के सफर के बाद नेरो ग्रेज से ब्रॉडगेज गेज परिवर्तन के लिए 2015 में मेगा ब्लॉक कर दिया गया बीते 7 वर्षो से बंद रेलवे का एकमात्र आवागमन का साधन सिवनी मंडला मार्ग था ।लगातार हुई वर्षा से एवं 2 दिनों तक पूल के डूबने के बाद दिनांक 16अगस्त को बाढ़ से खुला पुल का स्वरूप ने सिवनी मंडला के लिए आवागमन पूर्णतः बंद कर दिया। आवागमन का विकल्प के लिए मात्र केवलारी छिंदा पिंडरई नैनपुर होकर ही बनता है ,जो कि 25 किलोमीटर के लगभग अधिक फेरा के साथ एक घंटा अधिक यात्रा में शामिल हो गया। हमेशा की समस्या से निजात पाने के लिए मध्यप्रदेश शासन ने थांवर नदी पर नवीन उच्च स्तरीय पुल निर्माण का ठेका फलोदी कंस्ट्रक्शन कंपनी इंदौर को दिया हुआ है , अनुबंध के मुताबिक पुल बना कर देने की अंतिम समय सीमा अप्रैल 2023 है ,जिसके लिए हमें आठ माह के समय का इंतजार और करना पड़ेगा।

इनका क्या कहना
मौके पर मैं एवं एमपीआरडीसी के अधिकारी पहुंच रहे हैं मौके की स्थिति, भौगोलिक सत्यापन करने के बाद ही सामने आएगी कि आगे क्या किया जाना है और इस मार्ग को कैसे चालू किया जाना है।
पवन पटवा
एसडीओ ब्रिज कारपोरेशन सिवनी

हम लोग मौके पर उपस्थित हैं और हमारे जीएम साहब के आने का हम इंतजार कर रहे हैं इस मार्ग को चालू कराने के लिए जो भी जल्दी विकल्प हमारे सामने आएगा उस पर हम कार्य करेंगे ।


बाल पांडेय
प्रबंधक एमपीआरडीसी छिंदवाड़ा

लगातार बारिश और क्षेत्रीय बिजासेन बांध से जल निकासी के कारण थांवर नदी में जल का स्तर पुल के ऊपर लंबे समय तक होने से पूल का हिस्सा क्षतिग्रस्त हुआ है। हमने बैरिकेटिंग कर के मार्ग को बंद कर दिया है और एमपीआरडीसी के अधिकारियों को तत्काल सुधार कार्य के लिए निर्देशित किया हुआ है।
अमित सिंह
एसडीएम केवलारी

मैं अभी मौके से थावर पुल की स्थिति देख कर आया हूं, सिवनी मंडला मार्ग चालू होने में समय लगेगा आवागमन का प्रमुख एकमात्र साधन था ।जन समुदाय की स्थिति देखते हुए रेल्वे के अधिकारियों को नैनपुर से छिंदवाड़ा ट्रेन तत्काल चालू करना चाहिए ,मुख्यमंत्री जी से मेरा आग्रह है कि इस ओर अति शीघ्र कदम उठाए।
पवन यादव पूर्व जनपद सदस्य, केवलारी

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

 
Sorry, there are no polls available at the moment.

सिवनी/केवलारी। क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश से नदी नाले उफान पर है। सिवनी मंडला राजमार्ग 11 ए मे सिवनी मंडला सीमा रेखा से गुजरने वाली थांवर नदी का रौद्र रूप दिनांक 14 अगस्त 2022 से पुल के ऊपर से लगभग 12 फीट पानी बहाव का था । 40 घंटों के लगभग पुल डूबने के बाद आज दोपहर जब पुल से पानी नीचे उतरा तब मालूम पड़ा कि ब्रिटिश शासन काल में बना पुल का संपूर्ण स्लैब जो कि बिशाल पत्थरो के टाईल्स के रूप में लगे थे पानी में बह गए एवं पुल के कई स्थानों उसे छतिग्रस्त होने का स्वरूप स्पष्ट दिखाई देने लगा।

सिवनी मंडला राजमार्ग 11 ए से डिंडोरी, अमरकंटक, शहडोल, छिंदवाड़ा ,बेतूल, नागपुर का सीधा संपर्क एवं आवागमन का एक प्रमुख साधन यह मार्ग है । अंग्रेज सरकार ने आवागमन की भीषण त्रासदी से निजात पाने के लिए नैनपुर जंक्शन का स्वरूप देकर वर्ष 1900 से 1904 के मध्य नैनपुर से छिंदवाड़ा, नागपुर, नैनपुर से जबलपुर, नैनपुर से मंडला ,नैनपुर से गोंदिया के लिए नेरो ग्रेज ट्रेन चलाया था।

115 वर्षों के सफर के बाद नेरो ग्रेज से ब्रॉडगेज गेज परिवर्तन के लिए 2015 में मेगा ब्लॉक कर दिया गया बीते 7 वर्षो से बंद रेलवे का एकमात्र आवागमन का साधन सिवनी मंडला मार्ग था ।लगातार हुई वर्षा से एवं 2 दिनों तक पूल के डूबने के बाद दिनांक 16अगस्त को बाढ़ से खुला पुल का स्वरूप ने सिवनी मंडला के लिए आवागमन पूर्णतः बंद कर दिया। आवागमन का विकल्प के लिए मात्र केवलारी छिंदा पिंडरई नैनपुर होकर ही बनता है ,जो कि 25 किलोमीटर के लगभग अधिक फेरा के साथ एक घंटा अधिक यात्रा में शामिल हो गया। हमेशा की समस्या से निजात पाने के लिए मध्यप्रदेश शासन ने थांवर नदी पर नवीन उच्च स्तरीय पुल निर्माण का ठेका फलोदी कंस्ट्रक्शन कंपनी इंदौर को दिया हुआ है , अनुबंध के मुताबिक पुल बना कर देने की अंतिम समय सीमा अप्रैल 2023 है ,जिसके लिए हमें आठ माह के समय का इंतजार और करना पड़ेगा।

इनका क्या कहना
मौके पर मैं एवं एमपीआरडीसी के अधिकारी पहुंच रहे हैं मौके की स्थिति, भौगोलिक सत्यापन करने के बाद ही सामने आएगी कि आगे क्या किया जाना है और इस मार्ग को कैसे चालू किया जाना है।
पवन पटवा
एसडीओ ब्रिज कारपोरेशन सिवनी

हम लोग मौके पर उपस्थित हैं और हमारे जीएम साहब के आने का हम इंतजार कर रहे हैं इस मार्ग को चालू कराने के लिए जो भी जल्दी विकल्प हमारे सामने आएगा उस पर हम कार्य करेंगे ।


बाल पांडेय
प्रबंधक एमपीआरडीसी छिंदवाड़ा

लगातार बारिश और क्षेत्रीय बिजासेन बांध से जल निकासी के कारण थांवर नदी में जल का स्तर पुल के ऊपर लंबे समय तक होने से पूल का हिस्सा क्षतिग्रस्त हुआ है। हमने बैरिकेटिंग कर के मार्ग को बंद कर दिया है और एमपीआरडीसी के अधिकारियों को तत्काल सुधार कार्य के लिए निर्देशित किया हुआ है।
अमित सिंह
एसडीएम केवलारी

मैं अभी मौके से थावर पुल की स्थिति देख कर आया हूं, सिवनी मंडला मार्ग चालू होने में समय लगेगा आवागमन का प्रमुख एकमात्र साधन था ।जन समुदाय की स्थिति देखते हुए रेल्वे के अधिकारियों को नैनपुर से छिंदवाड़ा ट्रेन तत्काल चालू करना चाहिए ,मुख्यमंत्री जी से मेरा आग्रह है कि इस ओर अति शीघ्र कदम उठाए।
पवन यादव पूर्व जनपद सदस्य, केवलारी

[avatar]