मप्र बारिश: 2,100 लोगों को बचाया गया, मुख्यमंत्री ने किया हवाई सर्वेक्षण

बाढ़ प्रभावित जिलों का शिवराज ने किया हवाई सर्वेक्षण, बोले- मैं खड़ा हूं धैर्य रखें, संकट की इस घड़ी से हम बाहर निकलेंगे 

- Advertisement -

भोपाल। मध्यप्रदेश में भारी बारिश के बाद तबाही के मंजर देखने को मिले हैं. जिसके बाद सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बाढ़ प्रभावित जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया. विदिशा ज़िले में भी हवाई सर्वे किया. सर्वे के दौरान सीएम ने विदिशा जिले के नटेरन गंज बासौदा, विदिशा, कुरवाई आदि क्षेत्रों का भ्रमण कर बाढ़ के हालातों का जायजा लिया. राहत शिविरों का निरीक्षण कर बाढ़ पीड़ितों से चर्चा की. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ज़िलों में चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन तेज करने के निर्देश दिए हैं

इस दौरान हेलीकॉप्टर से सर्वे करने विदिशा पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज ने गंजबासौदा में बाढ़ पीड़ितों के संबंध में अधिकारियों से चर्चा की. जिला कलेक्टर और जिले के एसपी मोनिका शुक्ला मौके पर मौजूद है. जिला कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने जिले की समस्त टीमों को एयरपोर्ट पर लाने के लिए निर्देश हैं. जिले में अलग-अलग स्थानों पर कई राहत केंद्र बनाए गए हैं, जहां पर लोगों को रोकने के अलावा खाने पीने की व्यवस्था की गई है.

मुख्यमंत्री शिवराज ने गुना जिले के प्रभावित क्षेत्रों का एरियल सर्वे किया. विदिशा, राजगढ़ और गुना जिले के अतिवृष्टि प्रभावित क्षेत्रों का एरियल सर्वे किया. सर्वे के बाद मुख्यमंत्री वापस भोपाल पहुंचे. मुख्यमंत्री अब विदिशा जिले के कुरवाई, रायसेन और सीहोर जिले के अतिवृष्टि प्रभावित क्षेत्रों का एरियल सर्वे करेंगे.

सीएम शिवराज ने कहा कि भोपाल, विदिशा, राजगढ़, समेत पूरे मध्य प्रदेश में वर्षा ने पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. जिस कारण बांध लबालब भरे हैं. कई बांधों के गेट खोलने पड़े हैं. कई जगह नदियां खतरे के निशान के ऊपर बह रही हैं. विदिशा जिले में बेतवा और उसकी सहायक नदियां उफान पर हैं. कई गांव घिरे हुए हैं.

मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि भोपाल की सड़कों पर मैं रात में भी घूमा था. जिलों में असामान्य वर्षा हुई है. प्रशासन लगातार सक्रिय है. कल से लगातार मैं स्थिति पर नजर रखे हुए हूं. रात को भी सिचुएशन रूम से और आज सुबह भी सर्वे कर रहा हूं. नुकसान की भरपाई करने का भी हम भरपूर प्रयास करेंगे.

सीएम ने आगे कहा कि सरकार और मैं खड़ा हूं. धैर्य रखें. संकट की इस घड़ी से हम बाहर निकलेंगे. मैं भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में निकल रहा हूं. जिसके बाद सीएम शिवराज ने बाढ़ प्रभावित ज़िलों का हवाई सर्वे कर रहे हैं.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ज़िलों में चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन तेज करने के निर्देश दिए हैं.

रेस्क्यू से निकाले गए लोगों की समुचित व्यवस्थाओं के निर्देश दिए गए हैं.

राहत कैंप में भोजन इत्यादि की व्यवस्थाओं के निर्देश.

अति वृष्टि या प्रभावित स्थानों में फंसे लोगों को फूड पैकेट बांटने के निर्देश.

विदिशा में पेयजल की व्यवस्था को दुरुस्त करने के निर्देश.

मुख्यमंत्री ने गुना जिला प्रशासन और ग्वालियर कमिश्नर से फोन पर जानकारी ली.

सीएम ने भोपाल में अतिवृष्टि से हुए बिजली के मेजर फॉल्ट से हुए नुकसान को तेजी से ठीक करने के निर्देश दिए.

चंबल, पार्वती और सिंध नदी में पानी के बढ़ रहे संभावित स्तर को लेकर भिंड, मुरैना, श्योपुर को सतर्क रहने के निर्देश दिए.

प्रदेश में भारी बारिश के चलते बने बाढ़ के हालातों को लेकर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बयान दिया है. उन्होंने कहा कि 16 मार्ग बंद हैं. गुना, श्योपुर जिले में कुछ गांव में पानी भरा हुआ है. विदिशा की 4 तहसील भारी बारिश से प्रभावित हुई हैं. 100 गांव प्रभावित हैं. सीहोर के कुछ गांव भी प्रभावित हुए हैं. ब्यावरा, भोपाल में भी रेस्क्यू ऑपरेशन चला है. 5 रेडी टू मूव टीम रिजर्व रखी हैं. 3 हेलीकॉप्टर रेस्क्यू के लिए रखे हैं. एसडीआरएफ, एनडीआरएफ की टीम सभी प्रभावित क्षेत्रों में मौजूद हैं. 385 फीडर भोपाल में कल खराब हुए थे. इनमें से अभी भी 30 फीडर बंद हैं, जो जल्द ठीक होंगे.

 

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

 
Sorry, there are no polls available at the moment.

बाढ़ प्रभावित जिलों का शिवराज ने किया हवाई सर्वेक्षण, बोले- मैं खड़ा हूं धैर्य रखें, संकट की इस घड़ी से हम बाहर निकलेंगे 

भोपाल। मध्यप्रदेश में भारी बारिश के बाद तबाही के मंजर देखने को मिले हैं. जिसके बाद सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बाढ़ प्रभावित जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया. विदिशा ज़िले में भी हवाई सर्वे किया. सर्वे के दौरान सीएम ने विदिशा जिले के नटेरन गंज बासौदा, विदिशा, कुरवाई आदि क्षेत्रों का भ्रमण कर बाढ़ के हालातों का जायजा लिया. राहत शिविरों का निरीक्षण कर बाढ़ पीड़ितों से चर्चा की. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ज़िलों में चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन तेज करने के निर्देश दिए हैं

इस दौरान हेलीकॉप्टर से सर्वे करने विदिशा पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज ने गंजबासौदा में बाढ़ पीड़ितों के संबंध में अधिकारियों से चर्चा की. जिला कलेक्टर और जिले के एसपी मोनिका शुक्ला मौके पर मौजूद है. जिला कलेक्टर उमाशंकर भार्गव ने जिले की समस्त टीमों को एयरपोर्ट पर लाने के लिए निर्देश हैं. जिले में अलग-अलग स्थानों पर कई राहत केंद्र बनाए गए हैं, जहां पर लोगों को रोकने के अलावा खाने पीने की व्यवस्था की गई है.

मुख्यमंत्री शिवराज ने गुना जिले के प्रभावित क्षेत्रों का एरियल सर्वे किया. विदिशा, राजगढ़ और गुना जिले के अतिवृष्टि प्रभावित क्षेत्रों का एरियल सर्वे किया. सर्वे के बाद मुख्यमंत्री वापस भोपाल पहुंचे. मुख्यमंत्री अब विदिशा जिले के कुरवाई, रायसेन और सीहोर जिले के अतिवृष्टि प्रभावित क्षेत्रों का एरियल सर्वे करेंगे.

सीएम शिवराज ने कहा कि भोपाल, विदिशा, राजगढ़, समेत पूरे मध्य प्रदेश में वर्षा ने पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. जिस कारण बांध लबालब भरे हैं. कई बांधों के गेट खोलने पड़े हैं. कई जगह नदियां खतरे के निशान के ऊपर बह रही हैं. विदिशा जिले में बेतवा और उसकी सहायक नदियां उफान पर हैं. कई गांव घिरे हुए हैं.

मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि भोपाल की सड़कों पर मैं रात में भी घूमा था. जिलों में असामान्य वर्षा हुई है. प्रशासन लगातार सक्रिय है. कल से लगातार मैं स्थिति पर नजर रखे हुए हूं. रात को भी सिचुएशन रूम से और आज सुबह भी सर्वे कर रहा हूं. नुकसान की भरपाई करने का भी हम भरपूर प्रयास करेंगे.

सीएम ने आगे कहा कि सरकार और मैं खड़ा हूं. धैर्य रखें. संकट की इस घड़ी से हम बाहर निकलेंगे. मैं भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में निकल रहा हूं. जिसके बाद सीएम शिवराज ने बाढ़ प्रभावित ज़िलों का हवाई सर्वे कर रहे हैं.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ज़िलों में चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन तेज करने के निर्देश दिए हैं.

रेस्क्यू से निकाले गए लोगों की समुचित व्यवस्थाओं के निर्देश दिए गए हैं.

राहत कैंप में भोजन इत्यादि की व्यवस्थाओं के निर्देश.

अति वृष्टि या प्रभावित स्थानों में फंसे लोगों को फूड पैकेट बांटने के निर्देश.

विदिशा में पेयजल की व्यवस्था को दुरुस्त करने के निर्देश.

मुख्यमंत्री ने गुना जिला प्रशासन और ग्वालियर कमिश्नर से फोन पर जानकारी ली.

सीएम ने भोपाल में अतिवृष्टि से हुए बिजली के मेजर फॉल्ट से हुए नुकसान को तेजी से ठीक करने के निर्देश दिए.

चंबल, पार्वती और सिंध नदी में पानी के बढ़ रहे संभावित स्तर को लेकर भिंड, मुरैना, श्योपुर को सतर्क रहने के निर्देश दिए.

प्रदेश में भारी बारिश के चलते बने बाढ़ के हालातों को लेकर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बयान दिया है. उन्होंने कहा कि 16 मार्ग बंद हैं. गुना, श्योपुर जिले में कुछ गांव में पानी भरा हुआ है. विदिशा की 4 तहसील भारी बारिश से प्रभावित हुई हैं. 100 गांव प्रभावित हैं. सीहोर के कुछ गांव भी प्रभावित हुए हैं. ब्यावरा, भोपाल में भी रेस्क्यू ऑपरेशन चला है. 5 रेडी टू मूव टीम रिजर्व रखी हैं. 3 हेलीकॉप्टर रेस्क्यू के लिए रखे हैं. एसडीआरएफ, एनडीआरएफ की टीम सभी प्रभावित क्षेत्रों में मौजूद हैं. 385 फीडर भोपाल में कल खराब हुए थे. इनमें से अभी भी 30 फीडर बंद हैं, जो जल्द ठीक होंगे.

 

[avatar]