ओबीसी महासभा जिला अध्यक्ष का होगा दिन रविवार को चुनाव

प्रदेश के पदाधिकारी बलपान ठाकुर के साथ उमेश गोल्हानी होंगे शामिल

- Advertisement -

सिवनी/ ओबीसी समाज के हक-अधिकारों व न्याय-सम्मान दिलाए जाने के लिए कृतसंकल्पित प्रदेश में युद्ध स्तर पर समाज को संगठित कर जनजागृति ला रही और लड़ाई लड़ रही ओबीसी महासभा की जिला कार्यकारिणी का आज 18 सितंबर रविवार को 11 बजे से द्विवार्षिक चुनाव की प्रक्रिया बरघाट रोड के साहू समाज (कर्मा भवन) मे साधारण सभा की बैठक में संपन्न होगी। जिसमें 60 सदस्यों की जिला अध्यक्ष मंडल कार्यकारिणी का पुनर्गठन किया जायेगा। 60 सदस्यों में 1-1 संयोजक, अध्यक्ष व वरिष्ठ उपाध्यक्ष, 2 कार्यकारी अध्यक्ष तथा 27 मोर्चों के संयोजक व अध्यक्ष का चयन किया जाएगा। 

ओबीसी महासभा के जिला संयोजक लोकेश साहू के हवाले से उक्ताशय की जानकारी देते हुए ओबीसी महासभा के जिला प्रवक्ता राजेश पटेल ने बताया कि ओबीसी महासभा की गत माह 7 अगस्त को संपन्न हुई जिला कोर कमेटी की बैठक में जिला बॉडी को भंग कर 18 सितंबर को चुनाव कराने का निश्चय पारित किया गया था। तदानुसार ये चुनाव हो रहे हैं। चुनाव गतिविधियां प्रदेश व संभागीय पदाधिकारीगणों के पर्यवेक्षण व मार्गदर्शन में संपन्न होंगे। राष्ट्रीय सलाहकार सेवानिवृत शिक्षक राजकुमार सनोडिया व प्रदेश चिकित्सा मोर्चा के उपाध्यक्ष बलपान ठाकुर पर्यवेक्षक होंगे तथा संभागीय कार्यकारी अध्यक्ष एड. उमेश गोल्हानी और महासचिवद्वय एड.शिव चंद्रवंशी व एड अनिल गोल्हानी चुनाव अधिकारी होंगे। मतदाता सूची बनाने का काम कोषाध्यक्ष शिवप्रसाद साहू कर रहे हैं।

श्री पटेल ने बताया कि चुनाव प्रक्रिया में ओबीसी महासभा के वे सभी सदस्य भाग ले सकते है जो ओबीसी महासभा के प्राथमिक सदस्य है । वहीं दूसरी ओर वे सदस्य जिन्होंने कम से कम 50 सदस्यों को सक्रिय सदस्य बनाया है और संगठन में सक्रिय भूमिका निभा रहे है।किसी भी पद के लिए अपने एक प्रस्तावक व समर्थक के साथ उम्मीदवारी कर सकते है।

चुनाव प्रक्रिया संपन्न होने के उपरांत सांयकाल 4 बजे ओबीसी महासभा के पदाधिकारी कलेक्ट्रेट परिसर पहुँचकर प्रर्दशन के साथ अपना मांगों का चेतावनी ज्ञापन सौपेंगे जिसमें ओबीसी समाज पर अपमान जनक टिप्पणी करने पर अंकुश लगाने जैसी अन्य मांगें शामिल है।मांगें पूरी ना होने की स्थिति में ओबीसी की जनगणना 27 प्रतिशत आरक्षण जैसी मांगें भी शामिल रहेंगी। ज्ञापन प्रर्दशन के दौरान ओबीसी वर्ग के हित अधिकार के लिए सक्रिय समाजसेवियों जनप्रतिनिधियों से उपस्थिति की अपील की गई है।

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

 
Sorry, there are no polls available at the moment.

प्रदेश के पदाधिकारी बलपान ठाकुर के साथ उमेश गोल्हानी होंगे शामिल

सिवनी/ ओबीसी समाज के हक-अधिकारों व न्याय-सम्मान दिलाए जाने के लिए कृतसंकल्पित प्रदेश में युद्ध स्तर पर समाज को संगठित कर जनजागृति ला रही और लड़ाई लड़ रही ओबीसी महासभा की जिला कार्यकारिणी का आज 18 सितंबर रविवार को 11 बजे से द्विवार्षिक चुनाव की प्रक्रिया बरघाट रोड के साहू समाज (कर्मा भवन) मे साधारण सभा की बैठक में संपन्न होगी। जिसमें 60 सदस्यों की जिला अध्यक्ष मंडल कार्यकारिणी का पुनर्गठन किया जायेगा। 60 सदस्यों में 1-1 संयोजक, अध्यक्ष व वरिष्ठ उपाध्यक्ष, 2 कार्यकारी अध्यक्ष तथा 27 मोर्चों के संयोजक व अध्यक्ष का चयन किया जाएगा। 

ओबीसी महासभा के जिला संयोजक लोकेश साहू के हवाले से उक्ताशय की जानकारी देते हुए ओबीसी महासभा के जिला प्रवक्ता राजेश पटेल ने बताया कि ओबीसी महासभा की गत माह 7 अगस्त को संपन्न हुई जिला कोर कमेटी की बैठक में जिला बॉडी को भंग कर 18 सितंबर को चुनाव कराने का निश्चय पारित किया गया था। तदानुसार ये चुनाव हो रहे हैं। चुनाव गतिविधियां प्रदेश व संभागीय पदाधिकारीगणों के पर्यवेक्षण व मार्गदर्शन में संपन्न होंगे। राष्ट्रीय सलाहकार सेवानिवृत शिक्षक राजकुमार सनोडिया व प्रदेश चिकित्सा मोर्चा के उपाध्यक्ष बलपान ठाकुर पर्यवेक्षक होंगे तथा संभागीय कार्यकारी अध्यक्ष एड. उमेश गोल्हानी और महासचिवद्वय एड.शिव चंद्रवंशी व एड अनिल गोल्हानी चुनाव अधिकारी होंगे। मतदाता सूची बनाने का काम कोषाध्यक्ष शिवप्रसाद साहू कर रहे हैं।

श्री पटेल ने बताया कि चुनाव प्रक्रिया में ओबीसी महासभा के वे सभी सदस्य भाग ले सकते है जो ओबीसी महासभा के प्राथमिक सदस्य है । वहीं दूसरी ओर वे सदस्य जिन्होंने कम से कम 50 सदस्यों को सक्रिय सदस्य बनाया है और संगठन में सक्रिय भूमिका निभा रहे है।किसी भी पद के लिए अपने एक प्रस्तावक व समर्थक के साथ उम्मीदवारी कर सकते है।

चुनाव प्रक्रिया संपन्न होने के उपरांत सांयकाल 4 बजे ओबीसी महासभा के पदाधिकारी कलेक्ट्रेट परिसर पहुँचकर प्रर्दशन के साथ अपना मांगों का चेतावनी ज्ञापन सौपेंगे जिसमें ओबीसी समाज पर अपमान जनक टिप्पणी करने पर अंकुश लगाने जैसी अन्य मांगें शामिल है।मांगें पूरी ना होने की स्थिति में ओबीसी की जनगणना 27 प्रतिशत आरक्षण जैसी मांगें भी शामिल रहेंगी। ज्ञापन प्रर्दशन के दौरान ओबीसी वर्ग के हित अधिकार के लिए सक्रिय समाजसेवियों जनप्रतिनिधियों से उपस्थिति की अपील की गई है।

[avatar]