मुक्कमल न हो सकी मोहब्बत ! प्रेमी युगल ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, पेड़ की डाल पर एक ही रस्सी से लटके मिले

दमोह के प्रेमी जोड़े ने पन्ना में लगाई फांसी, परिजनों ने शादी का विरोध किया तो एक दिन पहले छोड़ा था घर 

- Advertisement -

पन्ना। पन्ना जिले की अंतिम सीमा से सटे गैसाबाद थाना क्षेत्र के दो नाबालिग प्रेमी जोड़े ने समीपस्थ जिले की सीमा पर एक पेड़ पर एक साथ हाथ पकड़कर फांसी के फंदे पर झूलकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। जानकारी अनुसार हटा अनुविभाग गैसाबाद थाना क्षेत्र के रहने वाले दो नाबालिग प्रेमी जोड़े ने व्यारमा नदी के उस पार पन्ना जिले के सिमरिया थाना के ग्राम आमघाट के समीप हीरापुर हार में बबूल के पेड़ पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

वहीं गैसाबाद पुलिस को सूचना प्राप्त होने पर पंचनामा कार्रवाई कर मर्ग कायम कर जांच में लिया गया। बताया जा रहा है कि गैसाबाद थाना क्षेत्र निवासी दोनों नाबालिग बुधवार को लापता होने पर स्वजन द्वारा गैसाबाद पुलिस थाना में गुमशुदी की सूचना दी गई थी। गुरूवार सुबह गैसाबाद थाना से दो किमी दूर सिमरिया थाना के आमघाट के समीप हार में फांसी के फंदे पर झूलते दोनों नाबालिग मिले। वहीं इस घटना के बाद क्षेत्र में तरह-तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म रहा।

दमोह पुलिस को सौंपे शव

राहगीरों ने पेड़ पर शव लटके देखकर पन्ना जिले की सिमरिया थाना पुलिस सूचना की। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों शवों को फंदे उतारकर परिजनों को सूचना दी। गैसाबाद थाना पुलिस को दोनों शव सुपुर्द कर दिए गए। दोनों दमोह जिले के गैसाबाद थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं। पन्ना जिले की सीमा में आकर आत्महत्या की है।

उल्लेखित है कि पड़ोसी जिला दमोह के गैसाबाद निवासी एक प्रेमी युगल का प्यार परवान चढ़ पाता कि इसके पहले ही परिवार और समाज द्वारा स्वीकार न किए जाने भय से इन्होंने दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया। साथ जीने का सपना पूरा ना होते देख इस प्रेमी युगल ने पन्ना जिले के सीमावर्ती सिमरिया थाना क्षेत्र अंतर्गत हीरापुर ग्राम के आमघाट पहुंचकर साथ मरने का फैसला कर पेड़ की डाल पर एक ही रस्सी से फांसी लगा ली। इस तरह एक प्रेम कहानी का दर्दनाक दुखांत हो गया। फांसी के फंदे पर लटके प्रेमी जोड़े के शव का विचलित करने वाला दृश्य जिसने भी देखा उसका कलेजा बैठ गया और आंखें भर आईं। मृतकों की पहचान निवासी गैसाबाद जिला दमोह के रूप में हुई है। घटना का पता चलने पर दोनों मृतकों के परिजन भी मौके पर पहुंच चुके थे।

सिमरिया थाना से प्राप्त जानकारी अनुसार पुलिस को आज शाम करीब 4 बजे ग्रामीणों के द्वारा सूचना दी गई कि हीरापुर ग्राम के आमघाट के समीप एक पेड़ पर फांसी के फंदे पर दो अज्ञात शव लटके हैं। जानकारी मिलते ही सिमरिया थाना प्रभारी सुशील अहिरवार आनन-फानन हमराही बल के साथ मौके पर पहुंचे। तब तक सोशल मीडिया के माध्यम से यह सनसनीखेज खबर आग की तरह पूरे इलाके में फ़ैल गई। उधर लापता मयंक पटेल (परिवर्तित नाम) 18 वर्ष तथा मानसी वर्मा (परिवर्तित नाम) 17 वर्ष की खोजबीन में जुटे उनके परिजनों को जैसे ही इस घटना की भनक लगी वे भी तुरंत आमघाट पहुंचे। सिमरिया थाना प्रभारी ने बताया कि नाबालिग मानसी के रहस्मय तरीके से लापता होने की सूचना बुधवार 16 नवंबर को परिजनों के द्वारा गैसाबाद थाना में दी गई थी। जिस पर पुलिस ने बाकायदा प्रकरण कायम किया था। उधर, मयंक के भी गायब होने से नाबलिग लड़की के परिजनों को पूरा संदेह था कि मानसी उसी के साथ गई है।

लेकिन दोनों ही परिवारों ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि उनके बच्चे आत्मघाती कदम उठा लेंगे। जनचर्चा है कि प्रेमी युगल की मोहब्बत की राह में जातिगत बंधन और समाज के तथाकथित नियम-क़ानून आड़े आ रहे थे। इसलिए इन दोनों का रिश्ता उनके परिवार वालों को मंजूर नहीं था। जिसके चलते हताश-निराश होकर दोनों ने एक साथ मौत को गले लगा लिया।

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

 
Sorry, there are no polls available at the moment.

दमोह के प्रेमी जोड़े ने पन्ना में लगाई फांसी, परिजनों ने शादी का विरोध किया तो एक दिन पहले छोड़ा था घर 

पन्ना। पन्ना जिले की अंतिम सीमा से सटे गैसाबाद थाना क्षेत्र के दो नाबालिग प्रेमी जोड़े ने समीपस्थ जिले की सीमा पर एक पेड़ पर एक साथ हाथ पकड़कर फांसी के फंदे पर झूलकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। जानकारी अनुसार हटा अनुविभाग गैसाबाद थाना क्षेत्र के रहने वाले दो नाबालिग प्रेमी जोड़े ने व्यारमा नदी के उस पार पन्ना जिले के सिमरिया थाना के ग्राम आमघाट के समीप हीरापुर हार में बबूल के पेड़ पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

वहीं गैसाबाद पुलिस को सूचना प्राप्त होने पर पंचनामा कार्रवाई कर मर्ग कायम कर जांच में लिया गया। बताया जा रहा है कि गैसाबाद थाना क्षेत्र निवासी दोनों नाबालिग बुधवार को लापता होने पर स्वजन द्वारा गैसाबाद पुलिस थाना में गुमशुदी की सूचना दी गई थी। गुरूवार सुबह गैसाबाद थाना से दो किमी दूर सिमरिया थाना के आमघाट के समीप हार में फांसी के फंदे पर झूलते दोनों नाबालिग मिले। वहीं इस घटना के बाद क्षेत्र में तरह-तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म रहा।

दमोह पुलिस को सौंपे शव

राहगीरों ने पेड़ पर शव लटके देखकर पन्ना जिले की सिमरिया थाना पुलिस सूचना की। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों शवों को फंदे उतारकर परिजनों को सूचना दी। गैसाबाद थाना पुलिस को दोनों शव सुपुर्द कर दिए गए। दोनों दमोह जिले के गैसाबाद थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं। पन्ना जिले की सीमा में आकर आत्महत्या की है।

उल्लेखित है कि पड़ोसी जिला दमोह के गैसाबाद निवासी एक प्रेमी युगल का प्यार परवान चढ़ पाता कि इसके पहले ही परिवार और समाज द्वारा स्वीकार न किए जाने भय से इन्होंने दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया। साथ जीने का सपना पूरा ना होते देख इस प्रेमी युगल ने पन्ना जिले के सीमावर्ती सिमरिया थाना क्षेत्र अंतर्गत हीरापुर ग्राम के आमघाट पहुंचकर साथ मरने का फैसला कर पेड़ की डाल पर एक ही रस्सी से फांसी लगा ली। इस तरह एक प्रेम कहानी का दर्दनाक दुखांत हो गया। फांसी के फंदे पर लटके प्रेमी जोड़े के शव का विचलित करने वाला दृश्य जिसने भी देखा उसका कलेजा बैठ गया और आंखें भर आईं। मृतकों की पहचान निवासी गैसाबाद जिला दमोह के रूप में हुई है। घटना का पता चलने पर दोनों मृतकों के परिजन भी मौके पर पहुंच चुके थे।

सिमरिया थाना से प्राप्त जानकारी अनुसार पुलिस को आज शाम करीब 4 बजे ग्रामीणों के द्वारा सूचना दी गई कि हीरापुर ग्राम के आमघाट के समीप एक पेड़ पर फांसी के फंदे पर दो अज्ञात शव लटके हैं। जानकारी मिलते ही सिमरिया थाना प्रभारी सुशील अहिरवार आनन-फानन हमराही बल के साथ मौके पर पहुंचे। तब तक सोशल मीडिया के माध्यम से यह सनसनीखेज खबर आग की तरह पूरे इलाके में फ़ैल गई। उधर लापता मयंक पटेल (परिवर्तित नाम) 18 वर्ष तथा मानसी वर्मा (परिवर्तित नाम) 17 वर्ष की खोजबीन में जुटे उनके परिजनों को जैसे ही इस घटना की भनक लगी वे भी तुरंत आमघाट पहुंचे। सिमरिया थाना प्रभारी ने बताया कि नाबालिग मानसी के रहस्मय तरीके से लापता होने की सूचना बुधवार 16 नवंबर को परिजनों के द्वारा गैसाबाद थाना में दी गई थी। जिस पर पुलिस ने बाकायदा प्रकरण कायम किया था। उधर, मयंक के भी गायब होने से नाबलिग लड़की के परिजनों को पूरा संदेह था कि मानसी उसी के साथ गई है।

लेकिन दोनों ही परिवारों ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि उनके बच्चे आत्मघाती कदम उठा लेंगे। जनचर्चा है कि प्रेमी युगल की मोहब्बत की राह में जातिगत बंधन और समाज के तथाकथित नियम-क़ानून आड़े आ रहे थे। इसलिए इन दोनों का रिश्ता उनके परिवार वालों को मंजूर नहीं था। जिसके चलते हताश-निराश होकर दोनों ने एक साथ मौत को गले लगा लिया।

[avatar]