पलारी आईटीआई में नशा मुक्ति अभियान कार्यक्रम संपन्न : नशा मुक्त समाज निर्माण में विद्यार्थियों की भूमिका से कराया अवगत

- Advertisement -

केवलारी(पलारी) । पलारी स्थित शासकीय आईटीआई में नशा मुक्ति अभियान के अंतर्गत नशा मुक्ति सप्ताह का आयोजन किया गया। जिसमें निबंध लेखन, रंगोली, चित्रकला प्रतियोगिताओं द्वारा नशा मुक्ति का संदेश संस्था के विद्यार्थियों द्वारा दिया गया। संस्था प्राचार्य श्री सौरभ गुप्ता द्वारा मंगलवार को नशा मुक्ति सप्ताह का समापन पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में किया गया । कार्यक्रम में विद्यार्थियों द्वारा नशा मुक्त अभियान के अंतर्गत नुक्कड़ नाटक, लोकगीत, कविताएं आदि की प्रस्तुति दी गई ।

संस्था प्राचार्य ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए बताया कि नशे से किस प्रकार हमारे स्वास्थ्य हमारे परिवार और हमारे समाज को हानियां पहुंचती हैं । युवा पीढ़ी के भविष्य को अंधकार में ले जा रहा है नशे का शिकंजा, नशा एक धीमा जहर है। इसके सेवन से मनुष्य का जीवन अंधकार में डूब रहा है। आज की युवा पीढ़ी शराब, तंबाकू उत्पाद, चरस, अफीम सहित अन्य नशीले पदार्थो के अलावा मोबाइल आदि का इस्तेमाल कर रही है। नशे की लत युवाओं को पथभ्रष्ट कर रही है। नशा न केवल व्यक्ति का शारीरिक व मानसिक नुकसान करता है बल्कि उसके परिवार को भी पतन की ओर धकेल देता है। समाज में अपराध की मुख्य वजह नशा ही माना गया है।

आपको बता दे कि मादक पदार्थों के दुरुपयोग के मुद्दे से निपटने और भारत को नशा मुक्त बनाने के लिए देश में नशीले पदार्थों के उपयोग के मामले में सबसे संवेदनशील रूप से पहचान किए गए 272 जिलों में 15 अगस्त, 2020 को नशा मुक्त भारत अभियान (एनएमबीए) की शुरुआत की गई थी। इन संवेदनशील जिलों की पहचान व्यापक राष्ट्रीय सर्वेक्षण के निष्कर्षों और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) द्वारा उपलब्ध कराई गई जानकारी के आधार पर की गई थी। युवाओं, शैक्षणिक संस्थानों, महिलाओं, बच्चों और नागरिक समाज संगठनों/गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) की प्रमुख लक्षित आबादी और नशा मुक्ति अभियान के हितधारकों के रूप में परिकल्पना की गई है।

इसी तारतम्य में संस्था की प्रशिक्षण अधिकारी श्रीमती कीर्ति दुबे द्वारा नशा मुक्ति का संदेश दिया गया। इस दौरान संस्था के अन्य प्रशिक्षण अधिकारी प्रशांत मेश्राम, नितेश भलावी, नवीन पटले, अखिलेश्वर बोरवाने द्वारा विद्यार्थियों को नशामुक्ति की शपथ दिलाई गई। श्रीमती निषाद अंजुम कुरेशी, श्रीमती अर्पिता तिवारी, कुमारी सपना अमूलकर द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का कुशल नेतृत्व किया गया। कार्यक्रम के सफलतापूर्वक संपन्न कराने में गौरव कुमार जामरे, कुमारी भारती देशमुख एवं कुमारी पूजा राहंगडाले प्रशिक्षण अधिकारी का भी पूर्ण सहयोग रहा।

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

 
Sorry, there are no polls available at the moment.

केवलारी(पलारी) । पलारी स्थित शासकीय आईटीआई में नशा मुक्ति अभियान के अंतर्गत नशा मुक्ति सप्ताह का आयोजन किया गया। जिसमें निबंध लेखन, रंगोली, चित्रकला प्रतियोगिताओं द्वारा नशा मुक्ति का संदेश संस्था के विद्यार्थियों द्वारा दिया गया। संस्था प्राचार्य श्री सौरभ गुप्ता द्वारा मंगलवार को नशा मुक्ति सप्ताह का समापन पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में किया गया । कार्यक्रम में विद्यार्थियों द्वारा नशा मुक्त अभियान के अंतर्गत नुक्कड़ नाटक, लोकगीत, कविताएं आदि की प्रस्तुति दी गई ।

संस्था प्राचार्य ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए बताया कि नशे से किस प्रकार हमारे स्वास्थ्य हमारे परिवार और हमारे समाज को हानियां पहुंचती हैं । युवा पीढ़ी के भविष्य को अंधकार में ले जा रहा है नशे का शिकंजा, नशा एक धीमा जहर है। इसके सेवन से मनुष्य का जीवन अंधकार में डूब रहा है। आज की युवा पीढ़ी शराब, तंबाकू उत्पाद, चरस, अफीम सहित अन्य नशीले पदार्थो के अलावा मोबाइल आदि का इस्तेमाल कर रही है। नशे की लत युवाओं को पथभ्रष्ट कर रही है। नशा न केवल व्यक्ति का शारीरिक व मानसिक नुकसान करता है बल्कि उसके परिवार को भी पतन की ओर धकेल देता है। समाज में अपराध की मुख्य वजह नशा ही माना गया है।

आपको बता दे कि मादक पदार्थों के दुरुपयोग के मुद्दे से निपटने और भारत को नशा मुक्त बनाने के लिए देश में नशीले पदार्थों के उपयोग के मामले में सबसे संवेदनशील रूप से पहचान किए गए 272 जिलों में 15 अगस्त, 2020 को नशा मुक्त भारत अभियान (एनएमबीए) की शुरुआत की गई थी। इन संवेदनशील जिलों की पहचान व्यापक राष्ट्रीय सर्वेक्षण के निष्कर्षों और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) द्वारा उपलब्ध कराई गई जानकारी के आधार पर की गई थी। युवाओं, शैक्षणिक संस्थानों, महिलाओं, बच्चों और नागरिक समाज संगठनों/गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) की प्रमुख लक्षित आबादी और नशा मुक्ति अभियान के हितधारकों के रूप में परिकल्पना की गई है।

इसी तारतम्य में संस्था की प्रशिक्षण अधिकारी श्रीमती कीर्ति दुबे द्वारा नशा मुक्ति का संदेश दिया गया। इस दौरान संस्था के अन्य प्रशिक्षण अधिकारी प्रशांत मेश्राम, नितेश भलावी, नवीन पटले, अखिलेश्वर बोरवाने द्वारा विद्यार्थियों को नशामुक्ति की शपथ दिलाई गई। श्रीमती निषाद अंजुम कुरेशी, श्रीमती अर्पिता तिवारी, कुमारी सपना अमूलकर द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का कुशल नेतृत्व किया गया। कार्यक्रम के सफलतापूर्वक संपन्न कराने में गौरव कुमार जामरे, कुमारी भारती देशमुख एवं कुमारी पूजा राहंगडाले प्रशिक्षण अधिकारी का भी पूर्ण सहयोग रहा।

[avatar]