लोकायुक्त का शिकंजा रिश्वत लेते पटवारी गिरफ्तार: शिक्षक से ली घूस, नामांतरण के लिए मांगी थी 3 हजार की रिश्वत

- Advertisement -

सिवनी। मध्यप्रदेश में फिर एक पटवारी को रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया है। जबलपुर लोकायुक्त की टीम ने सिवनी जिले के पटवारी को रंगे हाथ रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। भ्रष्ट पटवारी तहसील कार्यालय में ही एक शिक्षक से रिश्वत ले रहा था, तभी टीम ने दबिश देकर उसे दबोच लिया। इस कार्रवाई से वहां हड़कंप मच गया।

दरअसल, सिवनी के कलेक्ट्रेट स्थित तहसील कार्यालय में लोकायुक्त जबलपुर की टीम ने हल्का नंबर 104 में पदस्थ पटवारी विपुल बरमैया को तीन हजार रूपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। पटवारी बरमैया भोंगा खेड़ा सरकारी स्कूल में पदस्थ शिक्षक संजय तिवारी निवासी भैरोगंज से प्लाट के नामांतरण के नाम पर तीन हजार रुपए की मांग की थी। फरियादी शिक्षक संजय तिवारी ने इस मामले को लेकर जबलपुर लोकायुक्त पुलिस को इसकी शिकायत कर दी, जिसके बाद छह सदस्यीय लोकायुक्त की टीम ने पटवारी को रंगे हाथ रिश्वत लेते गिरफ्तार कर लिया।

लोकायुक्त दल के निरीक्षक कमल सिंह उइके ने बताया कि डूंडासिवनी निवासी संजय (44) पुत्र स्व. केवल प्रसाद तिवारी माध्यमिक शिक्षक, शासकीय माध्यमिक शाला, भोंगाखेडा ने लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक जबलपुर को बीते दिन शिकायत की थी।

शिकायत में उन्होंने बताया था कि आवेदक (संजय तिवारी) की मां ने भैरोगंज सिवनी स्थित भूखंड को आवेदक के नाम रजिस्टर्ड दानपत्र से दिया जिसका ऑनलाइन खसरा दर्ज कराने एवम् ऋणपुस्तिका बनाने के एवज में पटवारी विपुल बरमैया तहसील कार्यालय सिवनी द्वारा 5000 हजार रूपये की मांग की जा रही है।

आगे बताया गया कि शिकायत के आधार पर लोकायुक्त दल द्वारा योजनाबद्ध तरीके से शुक्रवार को तहसील कार्यालय सिवनी में दबिश दी गई जहां पर संजय तिवारी द्वारा पटवारी विपुल बरमैया को तीन हजार रूपये की रिश्वत दी गई और पटवारी विपुल बरमैया को रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त के ट्रेप दल ने रंगे हाथ पकड़ा है।

बताया गया कि दल द्वारा अग्रिम कार्यवाहियां की जा रही है। इस कार्यवाही में ट्रैप दल सदस्य – निरीक्षक कमल सिंह उईके, निरीक्षक नरेश कुमार बेहरा, निरीक्षक रंजीत सिंह व ट्रैप दल के अन्य सदस्य शामिल रहे।

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

 
Sorry, there are no polls available at the moment.

सिवनी। मध्यप्रदेश में फिर एक पटवारी को रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया है। जबलपुर लोकायुक्त की टीम ने सिवनी जिले के पटवारी को रंगे हाथ रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है। भ्रष्ट पटवारी तहसील कार्यालय में ही एक शिक्षक से रिश्वत ले रहा था, तभी टीम ने दबिश देकर उसे दबोच लिया। इस कार्रवाई से वहां हड़कंप मच गया।

दरअसल, सिवनी के कलेक्ट्रेट स्थित तहसील कार्यालय में लोकायुक्त जबलपुर की टीम ने हल्का नंबर 104 में पदस्थ पटवारी विपुल बरमैया को तीन हजार रूपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। पटवारी बरमैया भोंगा खेड़ा सरकारी स्कूल में पदस्थ शिक्षक संजय तिवारी निवासी भैरोगंज से प्लाट के नामांतरण के नाम पर तीन हजार रुपए की मांग की थी। फरियादी शिक्षक संजय तिवारी ने इस मामले को लेकर जबलपुर लोकायुक्त पुलिस को इसकी शिकायत कर दी, जिसके बाद छह सदस्यीय लोकायुक्त की टीम ने पटवारी को रंगे हाथ रिश्वत लेते गिरफ्तार कर लिया।

लोकायुक्त दल के निरीक्षक कमल सिंह उइके ने बताया कि डूंडासिवनी निवासी संजय (44) पुत्र स्व. केवल प्रसाद तिवारी माध्यमिक शिक्षक, शासकीय माध्यमिक शाला, भोंगाखेडा ने लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक जबलपुर को बीते दिन शिकायत की थी।

शिकायत में उन्होंने बताया था कि आवेदक (संजय तिवारी) की मां ने भैरोगंज सिवनी स्थित भूखंड को आवेदक के नाम रजिस्टर्ड दानपत्र से दिया जिसका ऑनलाइन खसरा दर्ज कराने एवम् ऋणपुस्तिका बनाने के एवज में पटवारी विपुल बरमैया तहसील कार्यालय सिवनी द्वारा 5000 हजार रूपये की मांग की जा रही है।

आगे बताया गया कि शिकायत के आधार पर लोकायुक्त दल द्वारा योजनाबद्ध तरीके से शुक्रवार को तहसील कार्यालय सिवनी में दबिश दी गई जहां पर संजय तिवारी द्वारा पटवारी विपुल बरमैया को तीन हजार रूपये की रिश्वत दी गई और पटवारी विपुल बरमैया को रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त के ट्रेप दल ने रंगे हाथ पकड़ा है।

बताया गया कि दल द्वारा अग्रिम कार्यवाहियां की जा रही है। इस कार्यवाही में ट्रैप दल सदस्य – निरीक्षक कमल सिंह उईके, निरीक्षक नरेश कुमार बेहरा, निरीक्षक रंजीत सिंह व ट्रैप दल के अन्य सदस्य शामिल रहे।

[avatar]